05/12/2020
खुद को मिले अन्नदाता के सम्मान की लाज बनाए रखें किसान। नए कृषि कानून उनके नहीं दलालों के विरूद्ध हैं।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/लोकतंत्र में सभी को अपनी बात रखने और सरकार का विरोध करने का अधिकार है, परंतु यह अधिकार दूसरों के अधिकारों का हनन करने लगे तो फिर कानून की यह जिम्मेदारी बन जाती है कि वह अपनी जिम्मेदारी निभाए। किसानों को सरकार द्वारा बनाए गए नए कृषि कानूनों को लेकर अपना विरोध प्रकट करने का पूरा अधिकार है और वह पिछले 10 दिनों से देश की राजधानी को घेरे भी हुए हैं। सरकार इस दौरान किसान प्रतिनिधियों से चार दौर की वार्ता भी कर चुकी है और उनकी आपत्तियों पर विचार करने की बात भी कर चुकी है।
 पांचवे दौर की वार्ता भी होनेवाली है और उसमें कोई हल निकालने की भी मंशा सरकार की है क्योंकि इस आंदोलन से हो रही आम आदमी की परेशानी के साथ -साथ आंदोलन को इसमें घुसे कुछ हिंसक और अलगाववादी तत्त्वों से भी बचाना जरूरी हो चुका है। इस बात से कोई असहमत नहीं ही सकता कि देश के किसान की स्थिति आजादी के सात दशक बीत जाने के बाद भी नहीं सुधरी है। आज भी अधिकांश किसान गुर्बत का जीवन जीने को मजबूर है। किसानों की मेहनत को लूटने में दलाल और कृषि मंडियों में बैठे आढ़ती लूट लेते हैं और वह लूटा -पिटा हुआ सिर्फ अपने भाग्य को किसने के अलावा कुछ नहीं कर पाता। ऐसा नहीं है कि किसानों ने अपनी दशा को सुधारने हेतु पहले कभी संघर्ष नहीं किया हो परंतु हर बार वह ठगा गया और इस ठगी में इसके कथित नेता भी हिस्सेदार बने रहे। किसानों के नाम पर नेतागिरी करने वालों की अगर आर्थिक स्थिति की पड़ताल ईमानदारी से की जाए तो सारी सच्चाई सामने आ सकती है। वर्तमान आंदोलन की बात की जाए तो इसमें सबसे अधिक बढ़ -चढ़कर पंजाब के किसान हिस्सेदारी कर रहे हैं और ऐसा लगता है कि नए कृषि कानूनों से सबसे ज्यादा उनको ही परेशानी है। ऐसा नहीं कि यह कानून सिर्फ पंजाब के किसानों को प्रभावित करेगा देश के अन्य राज्यों के किसान इससे से अछूते रहेंगे। इस बात को समझने की जरूरत है कि पंजाब के किसान अधिक परेशान क्यों हैं और क्यों अकाली, कांग्रेस व आप पार्टी इसमें अपनी राजनीति करने में लगी है। जिस न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी बनाने की प्रमुख मांग किसानों की है उसका सबसे अधिक लाभ पंजाब के किसानों को हो रहा है। यह भी हकीकत है कि पंजाब में अकाली और कांग्रेस ने हो राज किया है और कृषि उपज मंडियों में इन्हीं के लोग ही आढ़ती का चौला पहनकर और प्रतिनिधियों /बोर्ड में वर्षों से कब्जा जमाया हुए है। यही आढ़ती और मण्डी समितियों में बैठे लोग ही किसानों का शोषण कर रहे हैं और अपने राजनैतिक नेताओं को भी फंडिग करते हैं। मोदी सरकार ने इसी तरह के दलालनुमा किसानों से आम किसानों को मुक्त करवाने हेतु नए कानून बनाए हैं जो किसानों की उपज को कृषि मंडियों के साथ- साथ अन्य बड़ी कम्पनियों को खरीदने का अवसर प्रदान करती है। सरकार के इस कदम से किसान को मंडियों के साथ ही दूसरे लोगों को अपनी फसल बेच कर अधिक पैसा पाने का अवसर मिलेगा। इस कानून के आने से आढ़तियों और किसान रूपी दलालों को चोट पहुंचनी है और इसीलिए इस आंदोलन को भड़काने में सबसे बड़ा योगदान इन्हीं लोगों का है। वास्तविकता यह भी है कि कांग्रेस का चरित्र दोगला है वह यहां तो इस आंदोलन का समर्थन कर रही है वहीं राजस्थान में अपनी सरकार होने के बावजूद किसानों न्यूनतम समर्थन मूल्य यानि एम एस पी पर खरीफ की फसल नहीं खरीदती और किसानों को बहुत कम दामों में अपनी उपज बेचने को मजबूर होना पड़ रहा है। केंद्र सरकार द्वारा बाजरे का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2150/रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित है और राजस्थान का किसान को सिर्फ1250/रुपए प्रति क्विंटल के दाम मिल रहे हैं। कांग्रेस को इस बात का जवाब देना चाहिए कि उसकी यह दोगली मानसिकता कैसे किसानों के हित में है?


Enter your Comments :-
Comments  
  
Name :  
  
Email :  
  
 
     





दिल्ली बार कौंसिल का निर्विरोध चेयरमेन बने राकेश सहरावत का अभिनंदन।

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/यहां दिल्ली बार कौंसिल के नवनिर्वाचित चेयरमैन श्री राकेश सेहरावत का स्थानीय अधिवक्ताओं ने नागरिक अभिनंदन किया।समारोह में शाहदरा बार एसोसिएशन के पूर्व सचिव प्रवीण चौधरी विशेष रूप से उपस्थित हुए। ज्ञात हो कि श्री सेहरावत को दिल्ली बार कॉन्सिल का निर्विरोध रूप से चेयरमैन निर्वाच


श्री कृष्ण को पूजने से अधिक उनके दिखाए मार्ग पर चलने में ही हमारा कल्याण।

शाहदरा(रमन भाटिया)।भगवान श्री कृष्ण के अवतरण दिवस (कृष्ण जन्माष्टमी) को स्थानीय राधा कृष्ण मंदिर, गीता भवन में बड़ी धूमधाम से मनाया गया। कोविड -19 के कारण इस बार भी मंदिर के बाहर से ही श्रद्धालुओं और भक्तों ने भगवान श्री कृष्ण जी के दर्शन लाभ कर आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर बड़े सुंदर मंदिर को सजाया गया


अफगानिस्तान भी हुआ हिन्दू -सिख विहीन राष्ट्र। क्या इस्लाम प्रेम और शांति का पैगाम देता है?

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/आज से 14 सौ वर्ष पूर्व अस्तित्व में आया इस्लाम अब तक कई सभ्यताओं और राष्ट्रों को निगल चुका है। दूसरी सभ्यताओं और धार्मिक मान्यताओं को नेस्तनाबूद करने की प्रक्रिया अभी भी जारी है।अफगानिस्तान राष्ट्र का ताजा उदाहरणआज हमारे सामने है जो अब पूरी तरह से गैर मुस्लिम यानि हिन्दू -सिख विहीन


आर एस चौधरी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा जरूरतमंद लोगों को फ्री राशन और राखी का वितरण।

दिल्ली(रमन भाटिया)।यहां गीता भवन,भोलानाथ नगर, शाहदरा में आर एस चौधरी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा लगभग 500 गरीब परिवारों को फ्री राशन और राखी का वितरण किया गया।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के महापौर श्री श्याम सुंदर अग्रवाल जी रहे।


देश विभाजन और लाखों लोगों की हत्या के लिए गांधी,नेहरूऔर जिन्ना दोषी।

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/आज से 74 वर्ष पूर्व जहां भारत को अंग्रेजी साम्राज्य से मुक्ति मिली,वहीं भारत को विभाजन का दर्द भी मिला। को धार्मिक हिन्दू- मुस्लिम आधार पर दो टुकड़ों में विभाजित करवाने के जिम्मेदार नेहरू और मोहम्मद अली जिन्ना को जहां राजसत्ता मिली वहीं करोड़ों लोगों को अपने ही देश में शरणार्थी बन ज


ममता ने संवैधानिक मर्यादाओं को किया तार-तार।बंगाल की हिंसा को सरकार का संरक्षण।- विजयवर्गीय

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/ दिल्ली प्रदेश भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में राष्ट्रीय महासचिव और बंगाल के प्रभारी श्री कैलाश विजयवर्गीय ने सुलगते बंगाल विषय पर 'देश के साथ एक संवाद' कार्यक्रम को VC के माध्यम से पार्टी के कार्यकर्त्ताओं को संबोधित किया।


भोलानाथ नगर मेन रोड का नामकरण लाला सूरज भान जैन के नाम से किया गया।

शाहदरा(रमन भाटिया)/यहां भोलानाथ नगर मेन रोड( नियर स्टेट बैंक) का नामकरण लाला सूरज भान जैन के नाम पर कर दिया गया। ज्ञात हो कि स्वर्गीय जैन साहब जनसंघ के समय से ही पार्टी के साथ जुड़े हुए थे और पूर्वी दिल्ली के महापौर निर्मल जैन जी उन्हीं के सपुत्र हैं। स्व. सूरज भान जी आपात काल में जेल में भी रहे और सामाजिक कार्


आर एस चौधरी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा जरूरत मंद परिवारों को किया गया राशन किट का वितरण।

शाहदरा(रमन भाटिया)।यहां आर एस चौधरी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा श्री नरेंद्र मोदी सरकार के सात वर्ष सफल कार्यकाल के पूर्ण होने पर जरूरत मंद परिवारों को सूखे राशन का वितरण किया गया। ज्ञात हो कि ट्रस्ट द्वारा कोरोना काल में राशन वितरण का यह तीसरा अवसर था। कार्यक्रम में निगम पार्षद संजय गोयल, वरिष्ठ पत्रकार व अध


खुद को मिले अन्नदाता के सम्मान की लाज बनाए रखें किसान। नए कृषि कानून उनके नहीं दलालों के विरूद्ध हैं।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/लोकतंत्र में सभी को अपनी बात रखने और सरकार का विरोध करने का अधिकार है, परंतु यह अधिकार दूसरों के अधिकारों का हनन करने लगे तो फिर कानून की यह जिम्मेदारी बन जाती है कि वह अपनी जिम्मेदारी निभाए। किसानों को सरकार द्वारा बनाए गए नए कृषि कानूनों को लेकर अपना विरोध प्रकट करने का पूरा अधिकार


दिल्ली भाजपा में जमीनी और पुराने वर्करों की उपेक्षा ? क्या यह भी कांग्रेस की राह पर चल रही है?

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/दिल्ली में अभी स्थानीय स्तर पर मंडलों व जिलाअध्यक्षों की नियुक्ति की गई है।इन नियुक्तियों से कई जगह पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ताओं में रोष भी है और वह दबी जुबान में अपनी उपेक्षा का दर्द को व्यक्त कर रहे हैं। नाम न उजागर करने की शर्त पर इन्होंने कहा कि वास्तविकता तो यह है कि भाजपा