29/05/2020
दिल्ली के बेटे ने छोड़ा लोगों को भगवान भरोसे। सरकार के निक्कमेपन से कोरोना ने धारण किया रौद्र रुप।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/देश की राजधानी में कोरोना ने अपना खुला तांडव मचाना शुरू कर दिया है।दिल्ली कोरोना संक्रमण के मामले में देश के सभी राज्यों को पछाड़ती हुई अब तीसरे स्थान पर पहुंच गई है। यहां प्रतिदिन संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। सिर्फ यह रिपोर्ट लिखे जाने के पूर्व के24 घंटों में कोरोना के1024 नए मरीज बढ़ गए जिससे दिल्ली के आनेवाले दिनों की भयावह स्थिति की कल्पना मात्र से ही रूह कांप जाती है।

 एकओर दिल्ली सरकार कोरोना संक्रमण को रोकने में नाकाम साबित हुई है वहीं दूसरी ओर उस पर यह भी आरोप है कि वो संक्रमित मरीजों और इससे होने वाली मौतों के सहीआंकड़े भी छुपा रही है।केजरी की निक्कमी सरकार के सभी दावे धराशायी साबित हो रहे हैं। यह एक ऐसे मुख्यमंत्री हैं जो अपने घर से बाहर नहीं निकले और सिर्फ टीवी और समाचार पत्रों में विज्ञापनों पर करोड़ों रुपए खर्च करके कोरोना योद्धा बने हुए हैं। अपनी जिम्मेदारी को सही तरीके से न संभाल पा रही केजरी सरकार पर यह भी आरोप है कि यह राहत वितरण में भी सिर्फ समुदाय विशेष को ही प्रमुखता दे रहे हैं। इस सरकार की मुस्लिम तुष्टिकरण की नीति भी संक्रमण रोकने में बाधक बनी हुई है। पहले मरकज और बाद में मजदूरों को गुमराह करके सड़कों पर उतरवाने से भी दिल्ली में संक्रमण को फैलने का अवसर मिला है। इस सरकार के गरीब जनता को सरकारी राहत सामग्री देने की जांच होने पर इसमें भी बड़े घोटाले की परतें खुल सकती हैं। दिल्ली के मौहल्ला क्लीनिकों को विश्व का उत्तम स्वास्थ्य सुविधा केंद्र बताने वाली इस सरकार के पास इस बात का कोई जवाब नहीं है कि महामारी के इस दौर में यह स्वास्थ्य केंद्र कहां लोप हो गए हैं।यहां तमाम सरकारी दावों की पोल तो सरकारी अस्पतालों में जब मरीज को भर्ती करने से मना कर दिया जाता है,तब खुल जाती है। सरकारी अस्पतालों में कोई पुख्ता इंतजाम नहीं है और निजी अस्पतालों ने खुली लूट मचा दी है। समझ यह नहीं आता कि खुद को सत्यवादी राजा हरीश चन्द्र की औलाद होने का दावा करनेवाला यह मुख्यमंत्री, इन निजी अस्पतालों की लूट पर किस लिए मौन धारण किए हुए है। केजरी सरकार के अस्पतालों की सही तस्वीर तो तब ही समझ में आ गई जब कोरोना संक्रमण के लक्षण पाए जाने पर थाना नंदनगरी के एस एच ओ को किसी भी सरकारी अस्पताल ने भर्ती नहीं किया। बाद में उसकी बेटी ने जब कई जगह गुहार की तो पुलिस आयुक्त के दखल के बाद उनको भर्ती करवाया जा सका। दिन प्रतिदिन बिगड़ते हालात देखकर तो ऐसा लगने लगा है कि दिल्ली को लंदन बनानेवाले नौटंकी लाल ने इसको वुहान में तब्दील करने में कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ी है।
सरकारी अस्पताल जहां सरकार की मक्कारी और अव्यवस्था का शिकार बन गए वहीं दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों के संचालकों को इस महामारी में अनुचित लाभ कमाने का मानो सुनहरे अवसर मिल गया। इन अस्पतालों को न तो सरकार का डर है और न भगवान का कोई खौंफ है। ईलाज करने की बजाए सिर्फ पैसा वसूलना ही इन अस्पतालों का एकमात्र ध्येय बन चुका है। इन निजी अस्पतालों में किसी भी मरीज को बड़ी ही चिरौरी करने के बाद तो लिया जाता है और बाद में लाखों रुपए के बिल वसूलने के बाद जब मरीज भी नहीं बचता तो, पीड़ित परिवार की जो स्थिति होती है उसको सहज ही नहीं समझा जा सकता। जनता भी इस संक्रमण से बचने के सभी बचाव के उपाय अब भी मानने को तैयार नहीं है। जनता को अब भी यह बात अच्छी तरह से समझ लेनी होगी कि जान है तो कम खाकर भी जीवित रह सकते हैं और लापरवाही हुई तो कोरोना से उनको कोई नहीं बचा पाएगा। एक की लापरवाही उसके पूरे परिवार सहित कई अन्य लोगों का जीवन भी मुसीबत में डाल सकती है।दिल्ली के लोगों को अब यह बात अच्छी तरह से समझ आ रही होगी कि केजरीवाल का फ्री का बिजली -पानी बहुत ही महंगा सौदा साबित होनेवाला है जो उनकी जान को इनकी कीमत के रूप में मांग रहा है। (वॉयस ऑफ भारत) 



Comments  
  
Name :  
  
Email :  
  
Security Key :  
   8359585
 
     





अलवर:जिलाधीश और एस पी पदों पर तैनात हुई महिला अधिकारियों को कड़ी चुनौतियों से निपटना होगा।।

अलवर (अश्विनी भाटिया)/राजस्थान के अलवर जिले की कमान अब महिला अधिकारियों के हाथ में सौंप दी गई है। राज्य सरकार ने जहां जिले के जिलाधीश पद पर 2007 बैच की आईएएस अधिकारी आंनदी को नियुक्त किया है, वहीं पुलिस अधीक्षक के पद की जिम्मेदारी 2013 बैच की भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी तेजस्विनी गौतम को सौंपी है। अलवर पूर्वी राजस


दुशमनों के साथ सीमा पर तो सेना लड़ेगी पर देश के अंदर आर्थिक मोर्चे पर हमें लड़ना होगा।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/इस समय हमारा देश बहुत ही चुनौतीपूर्ण दौर से गुजर रहा है। हमें एक ओर जहां कोरोना जैसी महामारी से जूझना पड़ रहा है ,वहीं दूसरी ओर देश के दुश्मन चीन और पाकिस्तान हमारी सीमाओं पर हिंसक गतिविधियों को अंजाम देने में लगे हैं। देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए और चीनी सैनिकों के धोखेबाजी का मु


विकट परिस्थितियों से लड़ने वाला ही होता है असली नायक ।पलायन कायरता की निशानी।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/रुपहले पर्दे पर नाटकीय जीवन जीना और वास्तविक जीवन जीने में जमीन- आसमान का अन्तर है। यह जरूरी नहीं है कि रंगमंच पर योद्धा और साहसी दिखनेवाले लोग अपने असल जीवन में भी वैसे ही हों।पर्दा किसी भी कलाकार को यश और धन तो दे सकता है ,लेकिन विपरीत परिस्थितियों में जीने का साहस और प्रबल इच्छाशक


दिल्ली के अस्पतालों में इलाज तो दूर पानी देनेवाला कोई नहीं।केंद्र सरकार कब तक मुक दर्शक बनी रहेगी?

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/ कोरोना से दिल्ली की बिगड़ी स्थिति को मुकदर्शक बनकर केंद्र सरकार को भी नहीं देखते रहना चाहिए। एक मक्कार,महाझूठे नौटंकीबाज मुख्यमंत्री के राहमो-करम पर जनता को छोड़ देने के कारण देश की राजधानी के लोग मौत के मुंह में जा रहे हैं जिनको बचाने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की भी होती है।केंद


दिल्ली में इलाज़ करने की बजाए नए शमशानों का हो रहा निर्माण। सरकार के सभी दावे झूठे?

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/ देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना ने अपना विकराल रूप धारण करना शुरू कर दिया है । दिल्ली के लोगों में हाहाकार मच रहा है। संक्रमितो की न जांच और न ईलाज हो पा रहा है। सरकार लगातार झूठे दावे करके जनता को गुमराह कर रही है। सही आंकड़ों को जनता से छिपाने में मीडिया भी बाजीगिरी कर रहा है। केजर


दंगे के आरोपी ताहिर हुसैन का पक्ष लेनेवाले अमानातुल्लाह पर केजरीवाल चुप क्यों हैं?

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/गत फ़रवरी माह में देश की राजधानी दिल्ली में हुए दंगों के लिए जांच एजेंसियों ने निगम पार्षद ताहिर हुसैन को मास्टर माइंड ठहराते हुए कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है। इन दंगों की साज़िश के मुख्य अभियुक्त ताहिर हुसैन अभी जेल में बंद हैं और उसकी कई गंभीर आपराधिक कृत्यों में संलिप्त


निरीह पशुओं के क्रूर हत्यारे शिक्षित से प्राणी मात्र पर दया रखने वालाअशिक्षित समाज उत्तम है।

हमारी सनातन संस्कृति प्राणी मात्र पर दया करने की शिक्षा हमको देती है। हम लोग चींटियों तक को भोजन देने वाली धार्मिक परिपाटी को माननेवाले लोग है। हम उस धार्मिक शिक्षा और संस्कृति के अनुयाई नहीं जो अपने कथित आराध्य को प्रसन्न करने के नाम पर अपने घर में पाले हुए हुए बेजुबान निरीह पशुओं की गर्दन पर छुरी फेरने


लड़कियां नहीं समझ पा रही लव जेहाद का सच ? प्रेमजाल में फसी छात्रा की हत्या का राज एक वर्ष बाद खुला।

पंजाब के लुधियाना की बी कॉम की छात्रा ने अपने घर से भागकर जिस अमन को हिन्दू समझकर प्रेम विवाह किया था वो असल में मुस्लिम शाकिब निकला।अपने प्रेमीअमन के साथ भागी लड़की अपने घर से लाखों रुपए के गहने भी लेकर आई थी।शाकिब ने अपनी असली पहचान छिपाकर अपना फर्जी हिन्दू नाम अमन बताकर लड़की को अपना शिकार बनाया था।जब ल


प्रचार पर करोड़ों रुपए बहाकर गिरगिट दिल्ली में लड़ रही कोरोना से जंग।परिणाम जनता भुगतेगी।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/ जिन मां-बाप का बेटा नालायक ,झूठा-मक्कार,निठल्ला,कामचोर और उनकी जीवन पूंजी से गुलछर्रे उड़ाना वाला हों तो उनकी मानसिक दशा क्या होगी?इसकाअंदाजा दिल्ली की जनता को देखकर सहज ही लगाया जा सकता है।


पत्रकारिता तलवार की धार पर चलना है। पैसे के लिए झूठ-फरेब,चापलूसी करना तो दलाली है।

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/पहले माना जाता था कि पत्रकार पैदा होता है बनाया नहीं जा सकता और पत्रकारिता करना तलवार की धार पर चलने के समान है। आज के युग में पत्रकार और पत्रकारिता के सभी मायने बदल चुके हैं।हिन्दी पत्रकारिता दिवस की मां सरस्वती के मानस पुत्रों को हार्दिक शुभकामनाएं।आज के ही दिन 30 मई,1826 को पं0 य