16/04/2020
सरकार के सभी दावों के बावजूद किसान और उपभोक्ताओं को नहीं मिल पा रही मुनाफाखोर व्यापारियों से मुक्ति। संकट का लाभ उठा रहे कुछ लोग।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया )/सरकार के लाख दावों के बावजूद किसानों के सामने यक्ष प्रश्न कि वह अपनी उपज को कैसे बेचे? कोरोना वायरस से बचाव के लिए किए गए लॉकडाउन का फायदा फिर वो वर्ग उठाने में जुट गया है जो खुद को व्यापारी बताता है और काम मुनाफाखोरी का करता है। इस महामारी में जहां इंसानों को मौत से बचने के लिए अपने घरों में कैद रहना पड़ रहा है वहीं यह कथित व्यापारी वर्ग दोनों हाथों से पीड़ित लोगों को लूटने में जुट गया है। आज हालात यह है कि इस संकट की घड़ी में हर उपभोक्ता वस्तु के दामों में बढ़ोतरी कर दी गई है। प्रत्येक दाल के दाम प्रति किलो 25-30 रुपए बढ़ाकर जनता से वसूले जा रहे हैं।आटा 35 से 40 रुपए प्रति किलो बेचा जा रहा है।

जहां एक ओर खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ाकर लोगों की मजबूरी का फायदा उठाया जा रहा है वहीं किसानों की रबी फसल को ओने -पौने में खरीदने का काम शुरू किया जा चुका है। सरकार के दावे बहुत हैं कि किसानों को उनकी उपज जिसमें गेंहू, जों, चना, मसूर और सरसों शामिल है,को सरकार द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर खरीदने की व्यवस्था की जा रही है, परंतु धरातल पर कुछ नहीं है। मेरी कई किसानों से बात हुई है जिन्होंने बताया कि उनको सरकारी दावों का कोई लाभ नहीं मिल रहा क्योंकि सरकारी नीति की जटिलताओं के कारण वह इस प्रक्रिया के तहत अपनी फसल नहीं बेच पा रहे।किसान अपनी उपज को स्टोर नहीं कर सकता है, क्योंकि उसके पास न तो इतनी व्यवस्था है और न ही इतनी गुंजाईश है कि वो हालत सामान्य होने तक अपनी उपज को न बेचे। सरकार द्वारा किसानों से उनकी फसल खरीदने की कोई कारगर व्यवस्था अभी तक नहीं बनी है क्योंकि सरकार के के कोरोना से निपटने में ही हाथ -पांव फूले हुए हैं। जबकि किसान को पैसा चाहिए और पैसा व्यापारी वर्ग के पास है,। किसानों की इसी मजबूरी का फायदा मुनाफाखोर व्यापारी उठा रहा है। सरकार ने रबी कीअलग -अलग फसल के जो रेट तय किए हैं उनसे बहुत ही कम कीमत पर उनकी फसल को मंडी में बेचने को कहा जा रहा है। सरसों का सरकारी दाम 44 सौ25 रुपए प्रति किवंटल है जबकि किसान से सरसों मण्डी में सिर्फ 35-36 सौ रुपए किवंटल बेचने को कहा जा रहा है। इसी तरह से जों14 सौ रुपए किवंटल खरीदे गए हैं जबकि इसका सरकारी रेट 15सौ 25 रुपए तय है। इसी तरह से अभी जबकि गेंहू n निकाली जा रही है उसका दाम सिर्फ 17 सौ रुपए किवंटल ही बताए जा रहे हैं। मजेदार बात यह है कि इस समय बाजार में आटा35 से40 रुपए किलो उपभोक्ताओं को खरीदना पड़ रहा है। गेंहू का सरकारी रेट 19 सौ 25  रुपए  तय है। किसानों से फसल खरीदने की सरकार की नीति व्यावहारिक न होने के कारण किसान इसी व्यापारी तबके के हाथों लुटने को विवश है। यह व्यापारी वर्ग एक ओर अनाज पैदा करने वाले किसान से सस्ते दाम में फसल खरीद कर माल काटता है  तो दूसरी ओर किसानों से खरीदी गई इन्हीं खाद्य वस्तुओं को स्टोर करके जनता को ऊंचे मुनाफे पर बेच देता है। सरकार के तमाम दावों के बावजूद किसानों को बिचौलियों के शोषण से कोई नहीं बचा पा रहा।




Comments  
  
Name :  
  
Email :  
  
Security Key :  
   1609159
 
     





प्रचार पर करोड़ों रुपए बहाकर गिरगिट दिल्ली में लड़ रही कोरोना से जंग।परिणाम जनता भुगतेगी।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/ जिन मां-बाप का बेटा नालायक ,झूठा-मक्कार,निठल्ला,कामचोर और उनकी जीवन पूंजी से गुलछर्रे उड़ाना वाला हों तो उनकी मानसिक दशा क्या होगी?इसकाअंदाजा दिल्ली की जनता को देखकर सहज ही लगाया जा सकता है।


पत्रकारिता तलवार की धार पर चलना है। पैसे के लिए झूठ-फरेब,चापलूसी करना तो दलाली है।

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/पहले माना जाता था कि पत्रकार पैदा होता है बनाया नहीं जा सकता और पत्रकारिता करना तलवार की धार पर चलने के समान है। आज के युग में पत्रकार और पत्रकारिता के सभी मायने बदल चुके हैं।हिन्दी पत्रकारिता दिवस की मां सरस्वती के मानस पुत्रों को हार्दिक शुभकामनाएं।आज के ही दिन 30 मई,1826 को पं0 य


दिल्ली के बेटे ने छोड़ा लोगों को भगवान भरोसे। सरकार के निक्कमेपन से कोरोना ने धारण किया रौद्र रुप।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/देश की राजधानी में कोरोना ने अपना खुला तांडव मचाना शुरू कर दिया है।दिल्ली कोरोना संक्रमण के मामले में देश के सभी राज्यों को पछाड़ती हुई अब तीसरे स्थान पर पहुंच गई है। यहां प्रतिदिन संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। सिर्फ यह रिपोर्ट लिखे जाने के पूर्व के24 घंटों में कोरोना के1024 नए


हिंदुत्व विचारधारा को विकसित करने का श्रेय वीर सावरकर जी को ही जाता है।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/भारतीय स्वाधीनता आंदोलन में वीर सावरकर जी का नाम भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाना चाहिए था परन्तु कांग्रेस ने हमेशा गांधी नेहरू के अलावा दूसरे आंदोलनकारियों को यह सम्मान नहीं दिया।उनके जीवन का अधिकांश भाग अंग्रेजी शासन में अंडमान निकोबारकी सेल्युलर जेल में ही बी


मीडिया का भारतीय मजदूरों के पलायन और उन्हें अपने देश में ही प्रवासी बताने के पीछे क्या कोई विदेशी साज़िश है?

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/अपने ही देश में कोई कैसे प्रवासी हो सकता है? यह भारत के कथित स्वयंभू बुद्धिजीवी पत्रकारों से सीखा जा सकता है। इनमें बहुत से तो विदेशी ताकतों के पेरोल पर पत्रकारिता की आड़ में साजिशें रच रहे हैं और देश के ही अपने मजदूरों को प्रवासी मजदूर साबित करने में जुटे हुए हैं। विदेशी आकाओं को खु


राम जन्मभूमि से मिली प्राचीन मूर्तियां और अवशेष इस्लाम के हिंसक और विध्वंसकारी होने का सबूत। कई और मस्ज़िदों के नीचे भी हो सकते हैं मन्दिर?

दिल्ली (अश्विनि भाटिया)।अयोध्या में राम जन्मभूमि के समतलीकरण के दौरान जमीन के अंदर से बड़ी संख्या में मन्दिर के अवशेष ,देवी - देवताओं की मूर्तियों सहित कई ऐसे प्राचीन वस्तुएं निकली हैं जिनसे यह प्रमाणित होता है कि यहां मन्दिर था।


दिल्ली में सरकार ने शराब पर लगाया भारी टैक्स। क्या पीने वालों से ज्यादा बेचने वाले थे बेचैन?

दिल्ली (अश्विनी भाटिया)/कोरोना संक्रमण से बेपरवाह शराब को किसी भी तरह से प्राप्त करने की नशेड़ियों की हरकत ने दिल्ली सरकार को यह कदम उठाने को प्रेरित किया।दिल्ली सरकार ने शराब की एम आर पी पर 70 प्रतिशत टैक्स बढ़ाया । लॉक डाउन के कारण पिछले कई दिन से शराब की दुकानें भी बंद थी, इससे पीने वालों को तो दिक्कत का साम


हमें शांति का पाठ पढ़ाने वालों ने यह नहीं बताया कि यह स्थापित कैसे होती है?क्या सिर्फ चमत्कारों के भरोसे बच पाएगा हमारा अस्तित्व?

हमें पिछली कई सदियों से जो धार्मिक शिक्षा दी जा रही है, उस पर चलकर हम कहां से कहां आ गए हैं? आज इस पर भी थोड़ा सा विचार करना आवशयक हो गया है। क्यों हम शांति का जाप करते - आतंक और आतंकियों से घिर गए? हमें यही पढाया जा रहा कुटुंबकम् क्या पूरा विश्व एक परिवार बन पाया ? इसका उत्तर है नहीं। हम विश्व को एक परिवार बनाते बन


सरकार के सभी दावों के बावजूद किसान और उपभोक्ताओं को नहीं मिल पा रही मुनाफाखोर व्यापारियों से मुक्ति। संकट का लाभ उठा रहे कुछ लोग।

दिल्ली (अश्विनी भाटिया )/सरकार के लाख दावों के बावजूद किसानों के सामने यक्ष प्रश्न कि वह अपनी उपज को कैसे बेचे? कोरोना वायरस से बचाव के लिए किए गए लॉकडाउन का फायदा फिर वो वर्ग उठाने में जुट गया है जो खुद को व्यापारी बताता है और काम मुनाफाखोरी का करता है। इस महामारी में जहां इंसानों को मौत से बचने के लिए अपने घर


बाबा साहब के नाम पर सिर्फ वोट बैंक और लाभ लेनेवाले सच्चे अबेड़कर वादी नहीं हो सकते।

दिल्ली(अश्विनी भाटिया)/बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर जयंती की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। बाबा साहब का नाम ले -लेकर भारत के राजनीतिक दलों ने देश की आजादी के बाद से ही अपना वोट बैंक बनायाऔर सफल भी रहे। बाबा साहब का नाम तो सभी ने लिया ,परन्तु उनके आदर्शों को अपने जीवन में उतारने की आवश्यकता किसी ने नहीं समझी। ब